मोहाली में इमीग्रेशन दफ्तर झोंक रहे हैं प्रशासन की आँखों में धुल
कंसल्टेंसी लाइसेंस तो लिया लेकिन मेन पॉवर लाइसेंस नहीं है

मोहाली (रोहित) मोहाली शहर में अभी भी लगभग 2000 से अधिक ट्रेवल एजेंट अपना काम कर रहे हैं  इन में से कुछ एक  ही  पंजाब गवर्मेंट का कंसल्टेंसी लाइसेंस लिए हुए हैं बाकी सब अभी भी धडले से अपना काम कर रहे हैं
यहाँ चिंताजनक बात यह है कि नकली ट्रेवल एजेंट तो कम कर ही रहे हैं लेकिन लाइसेंस होल्डर ट्रेवल एजेंट भी किसी नकली ट्रेवल एजेंट की तरह काम कर रहे हैं इन को तो जैसे नकली इमीग्रेशन के काम करने का लाइसेंस ही मिला हुआ हो
पंजाब में इस समय पुलिस ने नकली ट्रेवल एजेंटों के खिलाफ कमर कसी हुई है माननीय पंजाब और हरयाणा हाई कोर्ट के आदेशों के बाद जैसे सोई हुई पुलिस जाग गई हो अखबारों में नकली ट्रेवल एजेंटों के विज्ञापन नहीं लग रहे हैं तो अब नकली ट्रेवल एजेंटों ने दुसरे राज्यों के समाचार पत्रों  में कनाडा,ऑस्ट्रेलिया,सिंगापुर,और यूरोप में भेजने के विज्ञापन देने शुरू कर दिए हैं
मोहाली में इस समय लगभग सभी लाइसेंस होल्डर ट्रेवल एजेंट उतर प्रदेश,राजिस्थान,करेला,गुजरात और बिहार के लोगों को कनाडा,ऑस्ट्रेलिया भेजने का लुभावना सपना बेच रहे हैं इन ट्रेवल एजेंटों के पास कंसल्टेंसी लाइसेंस तो है लेकिन मेन पॉवर मतलब किसी को भी विदेश भेजने का लाइसेंस नहीं है यह वोही अपना पुराना तरीका प्रयोग में ला रहे हैं

कैसे बेच जा रहे हैं लुभावने सपने :

पंजाब में पुलिस प्रशासन की तरफ से हो रही सख्ती के बाद अब ट्रेवल एजेंट पंजाब को छोड़ उतर प्रदेश,राजिस्थान,करेला,गुजरात और बिहार के लोगों को कनाडा,ऑस्ट्रेलिया भेजने का लुभावना सपना बेच रहे हैं यह ट्रेवल एजेंट वहां के संचार पत्रों में अपना विदेश भेजने का विज्ञापन देते हैं और भोले भले लोगों को वहां से मोहाली में बुला मेडिकल,फाइल खर्चा,और एम्बेसी फीस के नाम पर लूट रहे हैं और लोगों  को पता भी नहीं चलता कि वेह लुट चुके हैं हम बताते चलें कि कनाडा,ऑस्ट्रेलिया,स्पेन जर्मनी,का इन लोगों  के पास किसी भी तरह का कोई भी वीजा नहीं है यह सिर्फ अपनी दूकान मोहाली प्रशसन के दिए हुए लाइसेंस पर चमका रहे हैं और लोगों को सरेआम लूट रहे हैं और मोहाली पुलिस प्रशासन और शहरी प्रशासन की आँखों में धुल झोंकी जा रही है मोहाली के फेज 11 से ले कर फेज 1 तक अभी भी पूरी मंदी सी लगी हुई है सब से ज़यादा 70 सेक्टर में तो लगभग हर शो रूम में 2 से 3 नकली या पंजाब गवर्मेंट वाले ट्रेवल एजेंट बेठे हुए हैं जो कनाडा,ऑस्ट्रेलिया,सिंगापुर,जर्मनी,स्पेन के वर्क परमिट के नाम पर उतर  प्रदेश, बिहार,गुजरात,राजिस्थान,हरयाणा के साम्चार्प्त्रों में विज्ञानं दे रहे हैं और लोगों को लूट रहे हैं और पुलिस सिर्फ दफ्तरों को चेक कर खाना पूर्ति कर रही है येही भी सब से बड़ा कारण है कि यह ट्रेवल एजेंट या यह कहें कि मृत ज़मीर लोग अपना धंधा पुलिस की अनदेखी की वजह से बढ़ाते जा रहे है
कैसे लूटा जाता हैं आम जनता को:

मेडिकल :

नकली या मोहाली के लाइसेंस होल्डर ट्रेवल एजेंट जो कनाडा,ऑस्ट्रेलिया,जर्मनी,स्पेन में वर्क परमिट पर भेजने का विज्ञापन देते हैं यह भोले भाले लोगों को अपने पास बुला कर इन लोगों का मेडिकल करवाते हैं यह मेडिकल 5000 से 10000 तक का होता है इस में से ट्रेवल एजेंट 300 से 500 मेडिकल लैब वाले को देते हैं और बाकी का सारा पैसा अपने पास रख लेते हैं और 
कैंडिडेट को 25 से 90 दिन का वीजा लगने का टाइम देते हैं और कुछ दिन के बाद उस को फ़ोन कर बोला जाता है कि आप का वीजा रिजेक्ट हो गया है और आम जनता को अपने लुटने का पता भी नहीं चलता है  
एम्बेसी फीस:

कुछ ट्रेवल एजेंट कैंडिडेट से एम्बेसी फीस के नाम पर 20000, से 30000 रुपये लेते हैं लेकिन किसी भी तरह की कोई भी फाइल तैयार नहीं की जाती है और न ही किसी भी एम्बेसी में फाइल लगाई जाती है और कैंडिडेट की दी गई फीस वापिस नहीं की जाती है

पासपोर्ट वापिस करने के नाम पर :

कई ट्रेवल एजेंट कैंडिडेट का मेडिकल करवा कर उन को वीजा आने का कुछ टाइम देते हैं लेकिन जब वीजा नहीं आने पर कैंडिडेट दफ्तर से सम्पर्क करता है तो ट्रेवल एजेंट इन कैंडिडेट को यह कह कर 20000 मांग लेते हैं कि तुमारा पासपोर्ट एम्बेसी में है और वीजा कैंसिल करने और पासपोर्ट वापिस लेने के लिए 20000 रुपये देने होंगे तो कैंडिडेट या तो पैसे देता है या पुलिस के पास जाता है तो वहां पर भी उस की कोई सुनवाई नहीं होती है

मोहाली शहर का पुलिस प्रशासन ट्रेवल एजेंटों के खिलाफ खोखली कारवाही कर के अपनी पीठ थपथपा रहा है लेकिन सचाई यह है कि इन ट्रेवल एजेंटों का जाल ऐसा  कि इन की जड़ों को हिलाना नामुमकिन सा हो गया है इस का एक उधारण मोहाली के फेज 11 का है जहाँ लगातार एक ट्रेवल एजेंट ब्लू स्टार के खिलाफ कई बेरोजगार और भोले भाले लोगों ने लिखियत शिकायतें दी हैं लेकिन आज भी वो ऑफिस सरे आम सिंगापुर के वर्क परमिट के नाम पर लोगों का नकली मेडिकल करवा रहा है और ऑफिस बंद नहीं हुआ है पुलिस को ऐसे लोगों के खिलाफ जो भी सख्त कारवाही होती है वो करनी चाहिए जिस से यह मृत ज़मीर लोग आम जनता को न लूट सकें  
 
Share To:

Post A Comment:

0 comments so far,add yours