एन,आर,सी" और देश के मुद्दों से भटकाती सरकार


रोहित कुमार 


आज देश नागरिकता विधेयक बिल की वजह से हाहाकार मचा हुआ है जहाँ देखो इस बिल के खिलाफ हिंसक विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं मोदी और शाह की जोड़ी ने पहले देश पर नोट बंदी लागु कर देश के लोगों बैंकों के बाहर खड़ा कर दिया उसके बाद मोदी जी ने जी,एस,टी लागु कर छोटे कारोबारियों को सड़क पर ला कर खड़ा कर दिया देश में बेरोज़गारी 45 साल में सब से निचले स्तर पर चली गई ,और सरकार पकोड़े बेचने को कहती रही नौजवान पीड़ी बेरोजारी की वजह से बद से बदहाल हो गए लेकिन सरकार से सवाल पूछने वाला कोई नहीं ,अभी हुए लोक सभा चुनाओं में सरकार के पास देश में पंप रही समस्याओं पर बात न कर सिर्फ कश्मीर में आर्टिकल 370,उड़ी स्ट्राइक,3 तलाक के सिवा कुछ नहीं था लेकिन फिर भी जनता ने भाजपा को भारी बहुमत दिया कि शायद यह सरकार हमें बेरोज़गारी ,महिला सुरक्षा,किसानों की आत्म्ह्तिया,देश की गिरती अर्थवेय्व्स्था,शिक्षा,मिडडेमील,ख़तम होते कारोबार,सरकारी कंपनियों के घाटे में जाने,बड़ते बालात्कारों  के मामलों,देश में बढ़ रही गरीबी ,हिन्दू मुस्लिम लड़ाइयों,भारतीय रुपया का अन्तराष्ट्रीय स्तर पर गिरने,पेट्रोलियम उत्पादों का महंगा होने,देश में बढ़ रही महंगाई ,देश की सुरक्षा ,अस्पतालों का कम होना,दवाइयों का महंगा होने,पीने के साफ़ पानी ,देश में बढ़ रही भिखारियों की संखिया,प्राइवेट स्कूलओं की मनमानी फीसों ,देश में बढ़ रहे भ्रष्टाचार,देश में ख़तम हो रहे आपसी भाई चारे,नेताओं का आम जनता से दुरी बनाये रखने ,पुलिस तन्त्र पर से आम जनता का भरोसे के खतम होने जैसे दंश को झेल रहे देश में एक और नागरिकता कानून जैसे डरामे को थोप कर देश के लोगों में नफ़रत फेला क्या हासिल हो रहा है सरकार भारत के मूल मुद्दों से हट कर यह सब क्या और क्यूँ कर रही है इस के बारे में देश विदेश के बुद्दीजीवियों के पास भी कोई जवाब नहीं है भाजपा सरकार को सब से पहले इस देश से इन मुद्दों को खतम कर देश को लोगों को विश्वास में ले कर ऐसे मुदों को थोपना चाहिए जिस से आम जनता का कोई सरोकार नहीं है एक तरफ आये दिन देश में बलात्कार बढ़ रहे हैं बेरोज़गारी अपने पुरे चरम पर है नौजवान देश छोड़ने को मजबूर हो रहे हैं और हमारे ग्रेह मंत्री अभी तक हिन्दू मुस्लिम की राजनीति से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं देश के नौजवानों कोई कोई मतलब नहीं है कि किसी भी नागरिकता विधेयक बिल से नौजवानों को नौकरी डैनी होगी तभी देश की उन्नति होगी ,जो पैसा इन फालतू की चीज़ों में भाजपा सरकार जाया कर रही है उस से एक इंडस्ट्री सिटी बनाई जा सकती है जिस में देश के पड़े लिखे नौजवानों को नौकरी दे सकते हैं ,देश के गरीबों को पके घर और रोज़गार दे कर देश से बेरोज़गारी और गरीबी के दंश झेल रहे लोगों को एक नई जिंदगी दी जा सकती है ,हमारे देश के ग्रह मंत्री किस नागरिकता कानून की बात करते हैं जिस देश में ज़यादात्र लोग आज सड़कों पर सोते हैं जिन के पास खाने के पैसे नहीं वो अपने पहचानपत्र कहाँ से ले कर आयेंगे ,बिहार,उत्तर परदेश,छतीसगढ़,जैसे राज्यों के कई गरीब लोग काम की तलाश में शहर से शहर भटकते हुए नज़र आते हैं उन के पास कहाँ के पहचानपत्र होंगे ,मैं ने आज एक महिला भिखारी से पूछा कि क्या तुम्हारे पास बैंक खाता है तो उस ने बोला कि मेरे पास तो आधार कार्ड नहीं है तो बैंक खाता कहाँ से आयेगा क्या इन सब लोगों को भाजपा सरकार जेल भेज देगी आज बात सिर्फ मुस्लिम समुदाय की नहीं बल्कि सारे देश के नागरिकों की है जो अपना बच्चों को पालने के लिए दर बदर की ठोकरें खा रहे हैं इस नागरिकता कानून से पता नहीं देश का कुछ भला हो या न हो लेकिन सरकारी दफ्तरों में बैठे भ्रष्ट कर्मियों का भला ज़रूर हो जायेगा और देश के कर दाताओं का लाखों करोड़ ज़रूर बर्बाद हो जायेगा मेरा भाजपा सरकार से सिर्फ इतना ही कहना है कि इस पैसे से एक ऐसा शहर बसाया जाए जहाँ देश के नौजवानों की पढ़ाई के अनुसार इंडस्ट्री व आई,टी कंपनियों को खोला जाए जिस से देश के नौजवानों को नौकरी भी मिल जाएगी और यह भी पता चल जयेग्गा कि कोण भरिय है और और कोण घुस भेठिया है ,इस से देश का पैसा भी ख़राब नहीं होगा और देश के पड़े लिखे लोगों को उन की मंजिल भी मिल जाएगी और भाजपा को दिए प्रचंड बहुमत का विश्वास भी बना रहेगा  
नागरिकता कानून पर मेरी राये :
देश में इस कानून को बना कर जो पैसा ख़राब किया जायेगा उस से अच्छा एक आई,टी सिटी ,इंडस्ट्रियल सिटी बना कर बेरोजार नौजवानों को नौकरी दी जाए जिस से यह पता चल जायेया कि देश में कोण घुस बेठिया है,
सड़कों पर सोने वाले परिवारों को पके मकान बना कर दिए जायें और उन के रोज़गार को सुनश्चित किया जाए तो देश की तरकी होगी और घुस भेठियों का भी पता चल जाएगा ,
भिखारियों के बच्चों को शिक्षा का बिल ला कर मुफ्त शिक्षा दी जाए और भिखारियों में भीख न मांगने की जागरूकता फेलाई जाए जिस से देश की उन्नति भी होगी और घुस भेठियों का भी पता चलेगा ,
इसी पैसे से महंगाई कम कर लोगों में भाजपा सरकार अपने खो रहे विश्वास को वापस पा कर टैक्स पयेर्स में जारुकता लाने की कोशिश करे और ज़यादा से ज़यादा टैक्स प्येर्स को बढाए जिस से देश में महंगाई तो ख़तम होगी और साथ में घुस भेथियों को भी चिन्हित किया जा सकता है ,
भाजपा को गैर भाजपा राज्य सरकारों से बात कर राज्यों में बस रहे अरीब लोगों की समस्याओं को समझ उस को दूर करने से एक तो गरीबी दूर होगी लोगों का भाजपा सरकार पर विशस बढेगा साथ में घुस भेठिये कहाँ हैं पता चलेगा
सरकारी कम्पनीज को बेचने के बजाये अगर उन को सब्सिडी दे कर उन को दोबारा खड़ा किया जाए और देश के गरीब लूं को उन की शिक्षा अनुसार मजदूरी का काम दिया जाए तो उस से एक तो अनपढ़ बेरोजगारों को रोजार मिलेगा और घुस भेठिये बाहर हो जायेंगे ,
मंत्रियों ,मुख्या मंत्रियों ,सांसदों ,एम,एल,ए और दुसरे राजनेताओं की सब्सिडी कम कर के जो पैसा बचे उस को देश की उन्नति के काम में लाया जा सकता है जिस से हमारा भारत देश तरकी के रस्ते पर सब को पछाड़ सकता है ,
देश में भाजपा सकरार को ऐसे केन्द्रों या फिर ऐसे शिवरों का प्रचलन करना चाहिए जिस से हिन्दू ,मुस्लिम ,सिख ,इसाई और हर धरम के लूं को साथ लाने के लिए जागरूकता फेलाई जाए जिस से देश में आपसी भाई चारा बना रहे और सब मिल कर देश की उन्नति के लिए काम करैं ,
भारत देश के हर स्कूल चाहे वो आर,एस,एस का हो या सीखों का या मुस्लिमों का वहां के बच्चों को आपसी प्यार देश की उन्नति और हमारे देश के कल्चर का पाठ पढाया जाये तो आने वाली नस्लें जातिवाद और धर्म के भेद भाव से दूर रह कर सिर्फ भारत की अखंडता की बात करेंगी ,
यह मेरी सोच है जिस से एक देश को देश बनाने में मदद मिल सकती है हिन्दू मुस्लिम और जातिवाद के नाम पर हिंसक घटनाओं से बचा सकता है लेकिन मुझे पता है यह सब हमारे देश में नामुमकिन है ,


Share To:

Post A Comment:

0 comments so far,add yours