पटियाला. पटियाला की सब्जी मंडी में रविवार सुबह गुरुद्वारा खिचड़ी साहिब बलबेड़ा के निहंगों ने कर्फ्यू पास पूछने पर हमला करने पर बवाल मच गया। एसएसपी मंदीप सिंह सिद्धू सुबह सवा 8 बजे मौके पर पहुंच गए। सबसे पहले उन्होंने एसजीपीसी प्रधान भाई गोबिंद सिंह लोंगोवाल और बुड्ढा दल के निहंग मुखी बाबा बलबीर सिंह को भी भरोसे में लिया था। इन दोनों की मंजूरी के बाद एसओजी बुलाई। साढ़े 9 बजे एसओजी पहुंच गई। एसएसपी ने गांव के पंच-सरपंचों से बातचीत कर उन्हें समझौते के लिए आगे लाए लेकिन बाबा ने उनकी भी बात नहीं सुनी। इसके बाद कार्रवाई का प्लान तैयार हुआ।
प्लान के तहत, एसएसपी गुरुद्वारे के पास बने अकाल अकादमी स्कूल की छत पर चढ़ गए। उन्होंने लाउडस्पीकर से गुरुद्वारे के अंदर बैठे मुखी बाबा बलविंदर सिंह से बात की। इस दौरान बाबा ने कई बार एसएसपी को गालियां दी, लेकिन एसएसपी बड़े धैर्य से गालियां भी सुनते रहे, एक बार भी आपा नहीं खोया, एक बार भी ऐसी गलती नहीं की जिससे निहंग हिंसक होते। इधर, एसएसपी लगभग 32 मिनट तक बाबा को अपनी बातों में उलझाए रहे और उधर, एसओजी के 21 कमांडो और पुलिस मुलाजिमों ने गुरुद्वारे को पीछे से घेर कर अंदर चले गए और निहंगों को मुठभेड़ के बाद काबू कर लिया।
पढ़िए स्कूल की छत पर माइक से बात करते एसएसपी और बाबा की बातचीत के अंश
  • बाबा- असीं तां सब्जी लैण गए सी, तूं हरमिंदर साहब ते चढ़ के आ गया, मेरी मन्न लै तूं चंगा रहेंगा।
-बाबा जी ऐंदा नीं करीदा। सियाणे बणीदै।
  •  बाबा- मन्न लै मेरी वी तूं, तैनूं कहता कि पछताएंगा तूं, ओ गिच्ची (गर्दन) तेरी मेरे हत्थ च ए, महाराज छेंवे पातशाह दा रस्ता रोकेया तूं
बाबा जी ऐं नहीं करीदा। असीं तुहाड़े नाल
नहीं लड़ना। 
  •  बाबा- चाहे तूं दुनिया दी फोर्स ला लै, तूं तां वी नहीं साडे कोल लग सकदा। होर दस्स?
असीं पुलिस लाउणी ही नहीं, तुसीं समझदे क्यों नहीं?
  •  बाबा- तूं जेहड़ा ए कम्म कीता ए (बेहद गुस्से में)चार चुफेरे खड़ा लई पुलिस, लै जा वापस चंगा रहेंगा
बाबा जी ऐदां नहीं करीदा, तुसीं तां स्याणे बंदे हो
बाबा- मैं वी तेनूं तां हीं कहनां, लै जा वापस..तेरी इज्जत रह जू, जीवें तेरी फोर्स खड़ी ए न, बंदे मेरे वी खड़े ने (फिर एकदम गुस्से में)-लै आ चक्क ओए तलवार मेरी
मेरी गल्ल सुण लो, ऐह चंगी गल्ल नहीं बाबा जी
तुंसी तां सिंह हो, सिंह भज्जदे थोड़ा हुंदे आ
  •  बाबा- असीं नहीं भज्जदे, असीं तां खड़े आं, तूं भज्जिया फिरदै
नहीं भज्जदै तां सामणे खड़े होके गल्ल करो, 
सियाणे बनो, मेरी बेनती मन्न लो
  •  बाबा- तेरे*** (गाली)**नाल की गल्ल करिए
बाबा जी बुरा नहीं बोलीदा, गुरुघर खड़े हो तुसीं
  •  बाबा- चल ***** (गाली)
बाबा जी असीं बेनतियां करन आए हां, तुसीं गुरु घर खड़े होके बद्दुआ दे रहे हो
  •  बाबा- तू बीमारी फैलाण आया ए इत्थे, गुरु घर नाल टक्कर लैण आया ए
असीं तुहाडे निंहग सिंहां नाल टक्कर लै वी नहीं सकदै
  •  बाबा- तेरा हाल देख नहीं होणा, गुरु घर फौज चढ़ा ती, कल्ला आ जांदा तूं
मैं कल्ला आ जादां हां, तुसीं आओ..आओ तुसीं
चल के बाहर, मैं आ रेहा हां कल्ला...आपां खड़ के गल्ल कर
लैने आं, आओ तुसीं पशुआं वाले बाड़े नूं।
गुरुद्वारा खिचड़ी साहिब-दावा 6वीं पातशाही ने यहां रुककर खिचड़ी खाई थी- एसजीपीसी नहीं मानती
लोगों ने कहा कि करीब 25 साल पहले बाबा बलजिंदर सिंह अमरगढ़ (संगरूर) से आए और दावा किया कि यहां सिखों के 6वें गुरु श्री गुरु हर गोबिंद साहिब जी ने दिल्ली जाते समय खिचड़ी खाई थी। हालांकि एसजीपीसी ने दावे को खारिज कर दिया था। इसके बावजूद बाबा ने गुरुद्वारा तैयार कर डेरा बनाया। 
दोषियों पर सख्त कार्रवाई करे सरकार ऐसे लोग समाज के लिए खतरा
पूर्व सीएम परकाश सिंह बादल कहा पुलिस कर्मचारियों पर हमला करने वालों पर सरकार सख्त कार्रवाई करे क्योंकि ऐसे लोग समाज के खतरा हैं।
पुलिस पर हमला करने वाले निहंगों से कोई नहीं संबंध
बाबा बुड्ढा दवल शिरोमणि पंथ अकाली बुड्ढा दवल पांचवा तख्त के मुखी सिंह साहिब जत्थेदार बाबा बलबीर सिंह 96 करोड़ी ने प्रेस नोट जारी करके कहा पुलिस पर हमला करने वाले इन निहंगों के साथ उनका कोई संबंध नहीं हैं। 
हमले से पुलिस कर्मचारियों का मनोबल गिरेगा, दोषियों पर कड़ी कार्रवाई हो
भगवंत मान ने कहा हमले से पुलिस मुलाजिमों का मनोबल गिरेगा। इस लिए सरकार दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करे ताकि भविष्य में ऐसे हरकत न हो।
Share To:

Post A Comment:

0 comments so far,add yours