जालंधर. लॉकडाउन का तीसरा चरण सोमवार से शुरू हो रहा है। कड़ी शर्तों के साथ सरकार ने इस दौरान कई बड़ी रियायतें दी हैं। 40 दिनों बाद लोग अपने काम पर लौट सकेंगेे। हालांकि, कई राज्यों ने अपने यहां के सबसे ज्यादा संक्रमित शहरों को संपूर्ण लॉकडाउन में रखा है। देश के कुल 733 जिलों में से 82% जिले ग्रीन और ऑरेंज जोन में हैं। इनमें सोमवार से व्यावसायिक गतिवधियां धीरे-धीरे बढ़नी शुरू होंगी। वहीं, पंजाब में फिलहाल कर्फ्यू ही जारी रहेगा।
300 से ज्यादा जिलों में शर्तों के साथ बसें-कैब भी चलेंगी
300 से ज्यादा जिलों में शर्तों के साथ बसें-कैब भी चलेंगी। सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी के एमडी महेश व्यास बताते हैं कि 20 अप्रैल को दी गई छूट के बाद गांवों में 1 करोड़ लोग काम पर लौट चुके हैं। जेएनयू के पूर्व प्रोफेसर और अर्थशास्त्री अरुण कुमार कहते हैं कि लॉकडाउन-2 तक अर्थव्यवस्था 25% पर चल रही थी और अब 35% तक चलने लगेगी। जहां तक इंडस्ट्री का सवाल है तो इंडस्ट्रियल क्षेत्र में अभी 7-8%  काम शुरू हो जाएगा। हालांकि, श्रमिकों का गांव लौटने का सिलसिला जारी है। इससे उद्योगों को दिक्कतें भी आएंगी।
रियल एस्टेट: 20% निर्माणाधीन प्रोजेक्ट में काम शुरू हो सकेगा
  • क्रेडाई के नेशनल चेयरमैन जक्षय शाह ने कहा शर्तों पर छूट मिली है। मानसून भी शुरू होने वाला है इसलिए पहले से जारी प्रोजेक्ट शुरू हो सकेंगे। आज से 20% प्रोजेक्ट में कार्य शुरू हो सकेगा।  
  • रियल एस्टेट और निर्माण क्षेत्र में 5 करोड़ नौकरियां हैं। यह सेक्टर पहले से भी प्रभावित है।
दुकानें: अब 25 लाख और दुकानें खुल सकेंगी, 50 लाख लोग लौटेंगे
  • कन्फडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स के बीसी भरतिया ने कहा, पहले से जरूरी सामान की दुकानें खुल रही हैं। नई छूट से 25 लाख और दुकानें खुलने की उम्मीद है। देश में करीब 7 करोड़ दुकानें हैं।  
  • इन दुकानों के माध्यम से 50 लाख लाेग अपने काम पर लौट आएंगे। रोजगार शुरू होगा।
इंडस्ट्री: देश के 15% उद्योगों में उत्पादन शुरू होने का अनुमान
  • नई रियायत से करीब 10% से 15% इंडस्ट्री शुरू कर पाएंगी। ज्यादातर स्थानों पर मजदूरों के न होने और रॉ मटेरियल की कमी से बड़ी इंडस्ट्री धीरे-धीरे खुलना शुरू होंगी।
  • देश में अभी 23 लाख से अधिक कारखाने  हैं, जिनमें 2.6 करोड़ लोग काम करते हैं।
एमएसएमई: सप्लाई करने वाली 35% इकाइयां शुरू होंगी
  • लघु उद्योग भारती के सेक्रेटरी गोविंद लेले बोले- बड़ी कंपनियों को सप्लाई करने वाली 30-35% कंपनियां व खुद का उत्पादन करने वाली 10-15% इकाईयां शुरू होंगी। 
  • कुल मिलाकर करीब 30% एमएसएमई इकाइयां उत्पादन शुरू कर सकती हैं। 
पंजाब में कैबिनेट 6 मई को, केंद्र की गाइडलाइंस पर लेंगे फैसला
केंद्र सरकार के लॉक डाउन का पंजाब के कर्फ्यू पर फिलहाल कोई असर नहीं होगा। सूबे में सुबह 9 बजे से दोपहर 1 बजे तक ही दुकानें खुलेंगी। बुधवार को कैबिनेट मीटिंग है, जिसमें एमएचए द्वारा दुकानें खोलने और दूसरी गाइडलाइंस को लेकर फैसला होगा। इस दौरान शराब की बिक्री को लेकर भी चर्चा हो होगी। कैबिनेट की मीटिंग होने तक सूबे के डीसी को अधिकृत किया है कि वह अपने इलाकों में एमएचए की गाइड लाइन के हिसाब से किन दुकानों को खोलने की इजाजत देते हैं।
Share To:

Post A Comment:

0 comments so far,add yours