लुधियाना. लुधियाना के शिमलापुरी स्थित क्वालिटी चौक इलाके में कांचा और बॉक्सर गैंग में गैंगवार हो गई। इसमें एक युवक की मौत हो गई, जबकि दूसरा गंभीर रूप से जख्मी हो गया। लोगों ने पुलिस को सूचना दी। थाना शिमलापुरी की पुलिस ने घायल गगनदीप के बयान लिए हैं। वहीं, मृतक रमनदीप के शव को पीजीआई से लुधियाना वापस लाया जा रहा है।
गगनदीप सिंह ने पुलिस को बताया कि वो कोई काम नहीं करता। 1 जून की रात को उन्हें एक दोस्त का फोन आया कि मठारू चौक में मिलना है। वो अपने दोस्त रमनदीप (21) के साथ गया। इस दौरान गै‌ंगस्टर सोनू उर्फ कांचा और बाकी के आरोपी पहुंच गए। इन्होंने आते ही तेजधार हथियारों से हमला शुरू कर दिया।
हमले में रमन और गगन दोनों के सिर व शरीर पर आरोपियों ने ताबड़तोड़ वार किए। जिसमें गगन के हाथ की उंगलियां कट गईं और अंगूठा अलग ही हो गया। जिसके बाद दोनों बेसुध होकर गिर गए तो आरोपियों ने समझा कि वो मर गए। लिहाजा कांचा ने अपने फोन में गाना लगाकर अपने साथियों के साथ डांस किया। फिर वो फरार हो गए।
गगन को धाेखे से चौक पर बुलवाया
2 साल पहले गगन ने कांचा के भाई पर हमला किया था। गगन ने जेल काटी थी। बदला लेने को कांचा ने धोखे से गगन को बुलाया। लेकिन गगन की जगह रमन मारा गया। 
रमन की मौत के बाद हत्या का केस 
घटना का पता चला तो परिजन डीएमसी अस्पताल से रमनदीप की छुट्टी करवा फरीदकोट ले गए। वहां हालत बिगड़ी तो पीजीआई ले गए। लेकिन वहां उसकी मौत हो गई। पुलिस ने रमनदीप की मौत के बाद हत्या का केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। 
वर्चस्व के लिए पहले भी किए हमले
कांचा और बाॅक्सर दो गैंग हैं। वर्चस्व के लिए पहले भी एक दूसरे पर हमला करते रहे हैं। कांचा गैंग ने मांगेराम हत्याकांड को भी अंजाम दिया था। आरोपी कांचा पर हत्या, हत्या की कोशिश समेत एक दर्जन के करीब पर्चे दर्ज हैं।
Share To:

Post A Comment:

0 comments so far,add yours