Report: Vipan Kumar
चंडीगढ़। स्वास्थ्य विभाग का मानना है कि राज्य में कोरोना अपने चरम पर पहुंचना शुरू हो गया है। राज्‍य में कोरोना का पीक शुरू हो गया है और इसके मद्देनजर कई कदम उठाए गए हैं। स्‍वास्‍थ्‍य विभाग ने 30 सितंबर तक डाक्टरों, मेडिकल स्टाफ, पैरा मेडिकल स्टाफ की छुट्टी, तबादलों पर रोक लगा दी है। यही नहीं स्टाफ को अपने-अपने स्टेशन पर ही रहने के आदेश दिए गए हैं।

सरकारी और ठेके पर रखे सभी तरह के मुलाजिमों पर लागू होंगे आदेश
स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिद्धू ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा है कि हम कोरोना महामारी से लड़ रहे हैं। ऐसे में जरूरी है कि मेडिकल स्टाफ व डॉक्टर अस्तपाल में मरीजों के इलाज पर ध्यान दें। उन्होंने कहा कि 30 सितंबर तक बाबा फरीद यूनिवर्सिटी भर्ती प्रक्रिया को भी पूरी कर लेगी। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग के पास स्टाफ की कमी काफी हद तक पूरी हो जाएगी।

मातृत्व और बेहद जरूरी होने पर ही मिलेगी छुट्टी
उन्होंने कहा कि मातृत्व अवकाश और बेहद जरूरी कारण के लिए चाइल्ड केयर लीव मामलों में ही छुट्टी संबंधी छूट होगी। यह आदेश स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के नियमित अधिकारियों व मुलाजिमों के अलावा विभिन्न ङ्क्षवगों, संस्थाओं में ठेके, आऊट सोर्सिंग के आधार पर काम कर रहे सभी मुलाजिमों पर भी लागू होंगे।

4245 खाली पद 30 सितंबर तक भरे जाएंगे।
बता दें कि 30 जून को पंजाब कैबिनेट ने स्वास्थ्य विभाग के 4245 पदों को तुरंत भरने का फैसला किया था। इसी के तहत यह फैसला लिया गया था कि यह पोस्ट पंजाब अधीनस्थ सेवाएं चुनाव बोर्ड की बजाय बाबा फरीद यूनिवर्सिटी भरेगी।
Share To:

Post A Comment:

0 comments so far,add yours