चंडीगढ़। पंजाब विधानसभा सत्र अब दो दिन का होगा। पहले यह सत्र केवल एक दिवसीय 19 अक्टूबर को ही था। आज सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में सत्र को दो दिन करने का फैसला लिया गया। सत्र के दौरान कृषि कानूनों पर चर्चा के अलावा लगभग 6 बिल पेश किए जाएंगे। कैप्टन ने कांग्रेस विधायक दल के साथ भी बैठक की। इसमें चर्चा की गई कि कैसे नए कृषि कानूनों को पंजाब में निष्प्रभावी किया जा सकता है। 

कांग्रेस विधायक दल (सीएलपी) की बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा, कृषि कानूनों के खिलाफ उनकी लड़ाई चलेगी।इसे सुप्रीम कोर्ट तक लड़ा जाएगा। विधानसभा सत्र बुलाने में देरी पर कैप्टन ने कहा कि यह पहले नहीं किया जा सकता था, क्योंकि कोई भी कदम उठाने से पहले सभी कानूनी पहलुुुुओं को भी देखना होता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वरिष्ठ वकीलों और पी चिदंबरम सहित कानूनी और स्वतंत्र विशेषज्ञों के परामर्श के बाद कृषि कानूनों के खिलाफ लड़ाई की रणनीति को अंतिम रूप देने के लिए विधायकों के सामनेे रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि देशभर के किसान पंजाब को बहुत उम्मीद के साथ देख रहे हैं। राज्य के किसानों और कृषि की रक्षा के लिए एक व्यापक रणनीति तैयार करने को विधायकों से विचार बेहद महत्वपूर्ण थे।


 

Share To:

Post A Comment:

0 comments so far,add yours