क्या मोहाली पुलिस किसी को सुरक्षित नहीं रख सकती" रोहित कुमार

मैं चंडीगढ़ में हुए एक गैंगवार में कत्ल का एकलौता गवाह और शिकायत करता" लेकिन पुलिस कर रही आरोपियों जैसा सलूक।

बॉक्सर गैंग के सदस्य जेल से भेज रहे वीडियो संदेश व जान से मारने की धमकी।


मोहाली/चंडीगढ़ (डेस्क) जहां एक तरफ ट्राइसिटी में गैंगवार की वारदातें बढ़ती जा रही हैं और कई गैंगस्टर मोहाली,चंडीगढ़ में पकड़े या मार दिए गए हैं वहीं कुछ गैंग अपने वर्चस्व को बचाने के लिए अब जेल में ही मोबाइल फ़ोन और इंटरनेट का इस्तेमाल कर अपने दुश्मनों को डराने- धमकाने का काम कर रहे हैं और चंडीगढ़ पुलिस सिर्फ मूकदर्शक बने तमाशा देख रही है। ऐसा ही कुछ हुआ 2019 के सिंतबर में जब चंडीगढ़ की पुरानी कोर्ट और सैक्टर 17 पुलिस स्टेशन से कुछ कदम की दूरी पर दिन दहाड़े एक गैंगवार में 2 नोजवानों को गोली मार दी गई जिस में से एक शख्स की मौके पर ही मौत हो गई। जब यह घटना हुई उस समय समाचारपत्र इंसाफ एक्सप्रेस के संपादक रोहित कुमार अपने किसी निजी काम से सैक्टर 17 गए हुए थे जब यह वारदात हुई तब रोहित कुमार घटना स्थल पर थे और उन्हों ने गोली चलने की आवाज़ सुनी तो गोली चलने वाली दिशा में देखा तो कुछ लड़के अपने चहरे को कपड़ों से लपेटे उन की तरफ भागते आ रहे हैं ।रोहित कुमार ने बताया कि वो बहुत हड़बड़ाहट में भाग रहे थे तो उन को शक हुआ कि कहीं यह गोली इन्हीं लोगों ने तो नहीं चलाई तो उन्हों ने उन में से एक लड़के को पकड़ लिया पकड़े जाने के बाद उस ने तुरंत अपना पिस्तौल रोहित कुमार की तरफ किया तो रोहित ने तुरंत उस को छोड़ दिया लेकिन इस हाथापाई में उस के लड़के के चहरे से कपड़ा उत्तर गया और वो 17 सैक्टर बस स्टैंड के मुख्य गेट की तरफ भागते हुए ऑटो रिक्शा में बैठ फरार होने में कामयाब हो गए ।रोहित कुमार ने बताया कि उन्हों ने जब देखा कि कोई भी इस घटना के बारे में पुलिस को जानकारी नहीं दे रहा तो उन्हों ने खुद आगे बढ़ इस घटना की शिकायत पुलिस को दी रोहित कुमार ने बताया कि उन को लगा कि पुलिस और समाज का साथ देना ही एक आम नागरिक का कर्त्वय है लेकिन उन्हों ने बताया कि पुलिस की मदद करना शायद उन की ज़िंदगी की सब से बड़ी गलती साबित हुई क्योंकि चंडीगढ़ में हुई इस वारदात का सम्बंध हरयाणा प्रांत के कुख्यात बॉक्सर गैंग से था जिन के ऊपर हरयाणा में कई संगीन धाराओं में मुकदमे दर्ज हैं । रोहित कुमार ने बताया कि वो अपनी गवाही से कभी भी पीछे नहीं हटेंगे। चाहे इस में मोहाली पुलिस उन का साथ दे या न दे। रोहित कुमार ने बताया कि पिछले एक साल में उन को कई तरह से गैंगस्टरों दुवारा परेशान किया जाता रहा लेकिन मोहाली पुलिस ने कभी भी इन घटनाओं को सीरियस नहीं लिया उन्हों ने बताया कि उन्हों ने कई बार खरड़ पुलिस को धमकियों और घर पर हो रहे हमलों की जानकारी लिखती और सबूतों के साथ दी लेकिन खरड़ पुलिस ने आज तक न तो उन को बुलाया और न ही किसी भी तरह की कार्यवाही की जो अपने आप में कई तरह के सवाल पैदा करती है। रोहित कुमार ने कहा कि मैं एक अखबार का संपादक हूँ मेरा काम उन लोगों की आवाज़ बनना है जिन की आवाज़ सत्ता और अफसरशाही के गल्यारों तक नहीं जाती 


लेकिन इस घटना के बाद मोहाली पुलिस का मेरे साथ जो रवैया था उस से उन को एक बात तो समझ में आ गई कि पुलिस का साथ देना मतलब अपने सिर को दीवार में मारने के सिवा कुछ नहीं।उन्हों ने कहा कि चंडीगढ़ पुलिस ने उन की हर सम्भव मदद की और सुरक्षा भी प्रदान की लेकिन चंडीगढ़ जेल से आरोपी गैंगस्टर लगातार मुझे जान से मारने की धमकी दे रहे हैं जिस के सबूत मैं कगंदिगढ़ पुलिस के उच्चाधिकारियों को दे चुका हूं। यह गैंगस्टर जेल से अपनी वीडियो बना मुझे भेजते हैं कभी दिल्ली के गैंगस्टर नीरज भिवानी के साथ वीडियो कॉल की रिकॉर्डिंग और कभी लॉरेंस बिश्नोई के साथ वीडियो कॉल करते हुए। मैं ने कई बार इस बारे पुलिस को सबूतों सहित सूचित किया लेकिन पुलिस की हड़धर्मी कि उन के सिर पर आज तक जूं तक न रेंगी। इंसाफ एक्सप्रेस समाचारपत्र के संपादक रोहित कुमार का कहना है कि उन को किसी गैंगस्टर से कोई डर नहीं उन की लड़ाई समाज और पुलिस की मदद के लिए थी और रहेगी चाहे उन को कुछ भी हो जाए लेकिन इस केस में मोहाली पुलिस जिस तरह से सामने आई है उस से मुझे कई सवालों के भंवर में ला खड़ा किया है जिन का जवाब हमेशा की तरह यही है कि पुलिस हर काम से अपना पल्ला झाड़ लेना चाहती है। उन्हों ने कहा कि वो अब तक मुख्यमंत्री पंजाब, गवर्नर चंडीगढ़, पंजाब और चंडीगढ़ के कई उच्च पुलिस अधिकारियों को मेल दुवारा अपनी जान को चल रहे खतरे बारे सूचित कर चुका हूं। यह गैंगस्टर आज भी जेल लगातार मुझे कॉल और मैसेज भेज रहे हैं। मुझे इन जेब कतरों का डर नहीं है। डर है तो बस इस बात का कि कानून से विश्वास उठ रहा है और अगर ऐसा ही रहा तो कभी भी कोई पुलिस की मदद नहीं करेगा।

Share To:

Post A Comment:

0 comments so far,add yours