लुधियाना। इस समय जहां सभी राजनीतिक पार्टियां किसान आंदोलन में जुटी हैं, वहीं भारतीय जनता पार्टी के बड़े नेता आगामी विधानसभा चुनाव के लिए सुरक्षित सीट की तलाश में जुट गए। भाजपा के सभी बड़े नेता उन पारंपरिक तीन सीटों पर नजर जमाए बैठे हैं, जहां पार्टी गठबंधन के दौर में चुनाव लड़ती आई है। दरअसल बड़े नेताओं को लगता है कि शहर की इन तीन सीटों पर भाजपा का जनाधार है। वहीं गठबंधन टूटने के बाद शहर की बाकी तीन सीटों पर दावेदारी करने से भाजपा के बड़े नेता दूरी बना रहे हैं। क्योंकि इन तीनों सीटों पर भाजपा की स्थिति बेहद कमजोर है। ऐसे में इन तीन हलकों में जनाधार रखने वाले दूसरी पार्टियों के कुछ नेता भाजपा हाईकमान से संपर्क साधने में जुट गए हैं।

शहर की छह विधानसभा सीटों में से तीन पर भारतीय जनता पार्टी और तीन पर अकाली दल चुनाव लड़ता था। लुधियाना सेंट्रल, नार्थ और वेस्ट से भाजपा और पूर्वी, दक्षिणी व आत्म नगर से अकाली दल चुनाव लड़ता था। अब भाजपा इन सभी छह सीटों पर चुनाव लड़ेगी। सेंट्रल और नार्थ हलके से भाजपा चुनाव जीत चुकी है और इन दोनों हलकों में भाजपा का जनाधार भी है। वेस्ट हलके में कैबिनेट मंत्री भारत भूषण आशु की स्थिति मजबूत रही है और पिछले दो चुनावों में भाजपा उम्मीदवारों को करारी शिकस्त दे चुके हैं। वेस्ट हलके में भाजपा का एक भी पार्षद नहीं है। इसलिए यह सीट भी भाजपा के लिए सेफ नहीं मानी जाती है।

Share To:

Post A Comment:

0 comments so far,add yours