नई दिल्ली I पश्चिम बंगाल में जैसे-जैसे विधानसभा चुनाव नजदीक आते आज रहे हैं, वैसे-वैसे सियासी सरगर्मी तेज होती जा रही है। विपक्ष पर लगातार हमलावर तेवर अपनाने वाली ममता बनर्जी ने पार्टी के बागी नेताओं को दो टूक चेतावनी दी है। उन्होंने पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल तमाम नेताओं को पार्टी छोड़ने की पूरी आजादी दे दी है। आपको बता दें कि हाल में ममता सरकार के मंत्री से लेकर टीएमसी के कई नेताओं ने दबी जुबान ही सही, अपना बागी तेवर दिखा दिया है। पश्चिम बंगाल के राजनीतिक गलियारों में ऐसे नेताओं के बीजेपी में शामिल होने की कयासबाजी तेज हो गई है।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शुक्रवार को 'पार्टी विरोधी गतिविधियों' के खिलाफ कड़ी चेतावनी देते हुए कहा कि विपक्ष के संपर्क में रहने वाले तृणमूल नेता पार्टी छोड़ने के लिए स्वतंत्र हैं। हालांकि टीएमसी सुप्रीमो ने कोई नाम नहीं लिया, लेकिन पार्टी सूत्रों के मुताबिक उनका इशारा हाल ही में मंत्रिमंडल से इस्तीफा देने वाले असंतुष्ट नेता शुभेंदु अधिकारी और पार्टी के खिलाफ बोलने वाले कुछ अन्य विधायकों की ओर था।

टीएमसी के एक वरिष्ठ नेता ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि दिन में हुई पार्टी की बैठक में बनर्जी ने कहा कि अगर एक नेता पार्टी से बाहर हो जाता है तो वह ऐसे लाख और नेता बना सकती हैं।

उन्होंने शुभेन्दु अधिकारी के पिता और पुरबा मेदिनीपुर टीएमसी प्रमुख और कांथी से सांसद शिशिर अधिकारी के साथ भी बात की और उनसे पार्टी विरोधी गतिविधियों पर लगाम लगाने और पार्टी की जिला इकाई से विरोध खत्म करने को कहा। टीएमसी नेता ने कहा कि शिशिर दा ने कहा कि वह इस पर गौर करेंगे।

ममता बनर्जी ने नए कृषि कानूनों के खिलाफ उत्तर भारत में चल रहे किसानों के आंदोलन को अपना समर्थन दिया और टीएमसी की  किसान शाखा से कहा कि वह आठ दिसंबर से मध्य कोलकाता में महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने तीन दिवसीय धरना प्रदर्शन करे।उन्होंने कहा कि पार्टी विरोधी गतिविधियों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और विपक्षी खेमे के संपर्क में रहने वाले लोग पार्टी छोड़ने के लिए स्वतंत्र हैं ।

Share To:

Post A Comment:

0 comments so far,add yours