मोहाली (रोहित) इस समय मोहाली ज़िले में जिस तरह से थोक के भाव पर वीज़ा कंसल्टेंसी लाइसेंस प्रशासन दुवारा बांटे जा रहे हैं इस से लगता है ज़िला प्रशासन मोहाली को एजुकेशन हब नहीं बल्कि इमीग्रेशन हब बना रहा है। मोहाली शहर में कनाडा , क्रोशिया,दुबई,कुवैत जैसे देशों में पक्की नॉकरी के नाम पर एक मंडी सी लगी हुई है और पुलिस प्रशासन और जिला प्रशासन ने कभी यह तकलीफ उठाने की कोशिश नहीं की कि कौन सा कंसल्टेंसी वीज़ा लाइसेंस वाला अपने दफ्तर में कर क्या रहा है इसकी जिम्मेदारी पुलिस ने आम जनता पर दे रखी है कि वो खुद को विदेश जाने के नाम पर लुटें और तब पुलिस को जा कर बताएं कि उसके साथ क्या हुआ है ?


मोहाली शहर में कुछ ऐसे कंसल्टेंसी लाइसेंस वाले वीज़ा एजेंट भी हैं जो पंजाब सरकार के कंसल्टेंसी लाइसेंस पर वर्क परमिट का ऐसा गोरख धंधा जमाये बैठे हैं और यह इमीग्रेशन दफ्तर वालों को बल सिर्फ पुलिस विभाग की नालायकी की वजह से ऐसा मिल रहा है कि यह लोगों को धमकाने और पत्रकारों पर गलत आरोप लगाने से भी नहीं चूकते। यह ऐसे घिनोने इंसानों की शरणी में आते हैं जिन का ककी दीन ईमान नहीं होता । जिस तरह से मोहाली ज़िले में वीज़ा वालों को लाइसेंस बांटे जा रहे हैं कि आने वाले समय में मोहाली शहर ठगी का सब से बड़ा अड्डा बनने वाला है ।

कई इमीग्रेशन वालों का तो यहां तक कहना है कि पुलिस के बड़े बड़े अफसर उनके जानकार हैं और राजनीतिक पार्टियों के कई नेता उनके रिश्तेदार या जानकार हैं।

इस बात को हम बफ ज़िम्मेदारी के साथ बोल रहे हैं क्योंकि इन बातों के सबूत हमारे पास हैं। कई इमीग्रेशन दफ्तरों पर केस दर्ज होने की वजह से भी आज तक चल रहे हैं अजर पुलिस इनके लिए रेड कारपिट बिछाती नज़र आती है ।

मोहाली शहर में कोई भी ऐसा दफ्तर नहीं है जो कनाडा के वर्क परमिट लगवा सके । कनाडा वर्क परमिट के नाम पर लाखों रुपये लूट लोजी या तो फरार हो जाते हैं या पुलिस की मदद से पैसा वापस करने का टाइम दिलवा दिया जाता है ।

हम ने इमीग्रेशन दफ्तरों की हर खबर बड़ी जिम्मेदारी से प्रस्तुत की है  हम अपनी हर खबर में पूरी जिम्मेदारी के साथ भी लिखते हैं कि अगर किसी को हमारी खबर से परेशानी है तो वो अदालत में हमारे खिलाफ मानहानी का केस कर सकता है।

लेकिन मोहाली शहर में कंसल्टेंसी लाइसेंस वाले धड़ले से कनाडा के वर्क परमिट के नाम पर लोगों से लाखों रुपया लूट रहे हैं ।ऐसे लोगों के पास किसी तरह का कोई भी लाइसेंस नहीं है जिस से वो लोगों को विदेशों में नॉकरी दिलवाने में सक्षम हों।

आज के समय में मोहाली शहर के हर सैक्टर में ऐसे कुछ लाइसेंस होल्डर नकली कनाडा वीज़ा या आफर लेटर के नाम पर जनता को लूट रहे हैं ।

मोहाली की पुलिस को जब भी हमने ऐसे इमीग्रेशन दफ्तरों की शिकायत की तो उनके सर पर जूं तक नहीं रिंगति और जब लुटाई हो जाती है तो बड़े बड़े अफसर अपनी पीठ थप थपाते नज़र आते हैं ।

हमारा सिर्फ पुलिस से इतना ही कहना है कि पूरी ईमानदारी के साथ हर महीने सब कंसल्टेंसी लाइसेंस दफ्तर वालों को चेक किया करे तो दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा।



Share To:

Post A Comment:

0 comments so far,add yours