Insaf express

Report : Ravi Kumar

Jawalamukhi


गर्मी में पानी की कमी के कारण सरकार व नेताओं कोश रहे लोग

  बच्चों के वायरल फीवर के कारण ज्वालामुखी सिविल अस्पताल में बीमार बच्चों की संख्या दिन प्रति -दिन बढ़ती  जा रही है यहां बेड की कमी के कारण एक बेड पर तीन चार बच्चों को सुलाना पड़ रहा है ऐसे में डा. वर्मा जी की सेवाएं सराहनीय है बेमिसाल है यहां से  बच्चे स्वस्थ व परिजन खुश हो कर घर लौट रहे हैं


 ज्वालामुखी विधानसभा क्षेत्र के बहुत से लोगों का कहना है कि पहले इस सिविल अस्पताल में  मरीजों को  छोटी बीमारी होने पर भी टांडा मेडिकल कालेज में रेफर कर दिया जाता था अधिकतर महीला डिलीवरी केस नोर्मल होने कि स्थिति में भी टांडा  मेडिकल कॉलेज में ही रेफर होते थे  लोग प्राइवेट अस्पतालों में अपना इलाज करना बेहतर समझते थे अस्पताल में अधिकतर वार्ड खाली ही रहते थे लेकिन अब यहां स्थिति बदल चुकी है अब प्राइवेट अस्पताल के वार्ड खाली  व  सिविल अस्पताल ज्वालामुखी के वार्ड भर रहे हैं जब से डा. वर्मा ने कार्यभार संभाला है तब से हर कोई यहां अस्पताल ही इलाज करना बेहतर समझता है




डा. वर्मा ज्वालामुखी सिविल अस्पताल में इससे पहले भी सत्रह साल तक चिकित्सक व वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी के रूप में यहां सेवाएं दे चुके हैं। डा.  सतेंद्र पाल वर्मा ऐसे चिकित्सक हैं जिन्होंने विशेषज्ञता पाने से पहले ही  दस हजार से अधिक सुरक्षित प्रसव करवाए हैं। एक साल में 1300 डिलीवरी करवाने वाले  डॉ. वर्मा व उनकी टीम को राज्य सरकार द्वारा सम्मानित भी किया जा चुका है। वर्तमान में डाक्टर वर्मा स्त्री रोग विशेषज्ञ के रूप में ज्वालामुखी  सिविल अस्पताल में सेवाएं दे रहे हैं


आजकल बच्चों में वायरल फीवर की बीमारी के कारण अस्पताल में एक बेड पर तीन चार बच्चों को सुलाना पड़ रहा है ऐसे में भी बहुत से बच्चे वह मरीज़ स्वस्थ होकर घरों को  भी लौट रहे है जोकि डाक्टर वर्मा व उनकी टीम की कड़ी मेहनत व  समाज सेवा के जज्बे से हो रहा है परन्तु वर्तमान सरकार और जनता के सेवक कहलाने वाले नेताओ-जनप्रतिनिधियों को यहां गर्मीयों में पानी जैसी मूलभूत सुविधाओं को उपलब्ध करवाने का समय नहीं है ऐसी कारों में सिर्फ वोट मांगने व रैलियों में ही जाते हैं  यहां अस्पताल मरीजों के साथ आए लोग पानी की बोतल हाथ में पकड़ कर यहां वहां बाहर घूम रहे हैं उन्हें दुकानों या लोगों के घरों से जाकर पीने का पानी लेने जाना पड़ रहा है। लोग अस्पताल प्रशासन से पूछ रहे हैं कि आखिर क्या वजह है कि  मरीजों को यहां पानी जैसी मूलभूत सुविधाएं नहीं मिल रही है। लोगों में सरकार व समाज सेवा का ढोंग करने वाले नेताओ  के प्रति बड़ी नाराजगी देखी जा रही है। यहां पर लगाए गए वाटर कूलर अधिकतर खाली पड़े रहते हैं । शौचालयों में भी पानी की कमी आ रही है जिसके कारण लोग सरकार व समाज सेवा का ढोंग रचने वाले नेताओं को कोश रहे हैं

Share To:

Post A Comment:

0 comments so far,add yours